RSS

॥व्यर्थ वाद विवाद॥

29 जुलाई

विचारधाराओं पर वर्तमान में उपस्थित वाद विवाद को समर्पित दोहांजली।

व्यर्थ वाद विवाद………

बौधिक उलझे तर्क में, कर कर वाद विवाद।
धर्म तत्व जाने नहिं, करे समय बर्बाद॥1॥

सद्भाग्य को स्वश्रम कहे, दुर्भाग्य पर विवाद ।
कर्मफ़ल जाने नहिं, व्यर्थ तर्क सम्वाद ॥2॥

कल तक जो बोते रहे, काट रहे है लोग ।
कर्मों के अनुरूप ही, भुगत रहे हैं भोग ॥3॥

कर्मों के मत पुछ रे, कैसे कैसे योग ।
भ्रांति कि हम भोग रहे, पर हमें भोगते भोग ॥4॥

ज्ञान बिना सब विफ़ल है, तन मन वाणी योग।
ज्ञान सहित आराधना, अक्षय सुख संयोग॥5॥
________________________________________________

 
13 टिप्पणियां

Posted by on 29/07/2010 में बिना श्रेणी

 

टैग: ,

13 responses to “॥व्यर्थ वाद विवाद॥

  1. राजभाषा हिंदी

    30/07/2010 at 7:50 पूर्वाह्न

    बहुत अच्छी प्रस्तुति।राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

     
  2. शारदा अरोरा

    01/08/2010 at 1:14 अपराह्न

    बहुत अर्थ पूर्ण लिखा है ।

     
  3. सुज्ञ

    01/08/2010 at 1:23 अपराह्न

    शारदा जी,सराहना के लिये आभार!!

     
  4. कविता रावत

    02/08/2010 at 6:29 अपराह्न

    ज्ञान बिना सब विफ़ल है, तन मन वाणी योग।ज्ञान सहित आराधना, अक्षय सुख संयोग॥5॥..satya vachanbahut sundar prastuti

     
  5. सुज्ञ

    02/08/2010 at 8:23 अपराह्न

    कविता जी,आभार आपका!!

     
  6. Rajey Sha

    04/08/2010 at 3:19 अपराह्न

    बेहतर प्रयास।

     
  7. सुज्ञ

    04/08/2010 at 11:07 अपराह्न

    राजेय जी,आभार आपका

     
  8. Akshita (Pakhi)

    05/08/2010 at 2:40 अपराह्न

    बहुत अच्छा लिखा आपने…________________________'पाखी की दुनिया' में 'लाल-लाल तुम बन जाओगे…'

     
  9. संगीता स्वरुप ( गीत )

    13/08/2010 at 11:54 पूर्वाह्न

    बहुत अर्थ पूर्ण दोहे ..

     
  10. Coral

    14/08/2010 at 7:08 पूर्वाह्न

    कल तक जो बोते रहे, काट रहे है लोग ।कर्मों के अनुरूप ही, भुगत रहे हैं भोग …..बहुत सुन्दर!

     
  11. सुज्ञ

    15/08/2010 at 3:23 अपराह्न

    संगीता जी,तृप्ती जी,आभार आपका।

     
  12. संगीता स्वरुप ( गीत )

    16/08/2010 at 3:05 अपराह्न

    मंगलवार 17 अगस्त को आपकी रचना … चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर ली गयी है .कृपया वहाँ आ कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ….आपका इंतज़ार रहेगा ..आपकी अभिव्यक्ति ही हमारी प्रेरणा है … आभार http://charchamanch.blogspot.com/

     
  13. M VERMA

    17/08/2010 at 5:38 अपराह्न

    बहुत सुन्दर

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

 
गहराना

विचार वेदना की गहराई

॥दस्तक॥

गिरते हैं शहसवार ही मैदान-ए-जंग में, वो तिफ़्ल क्या गिरेंगे जो घुटनों के बल चलते हैं

दृष्टिकोण

दुनिया और ज़िंदगी के अलग-अलग पहलुओं पर हितेन्द्र अनंत की राय

मल्हार Malhar

पुरातत्व, मुद्राशास्त्र, इतिहास, यात्रा आदि पर Archaeology, Numismatics, History, Travel and so on

मानसिक हलचल

मैं, ज्ञानदत्त पाण्डेय, गाँव विक्रमपुर, जिला भदोही, उत्तरप्रदेश (भारत) में ग्रामीण जीवन जी रहा हूँ। मुख्य परिचालन प्रबंधक पद से रिटायर रेलवे अफसर। वैसे; ट्रेन के सैलून को छोड़ने के बाद गांव की पगडंडी पर साइकिल से चलने में कठिनाई नहीं हुई। 😊

सुज्ञ

चरित्र विकास

WordPress.com

WordPress.com is the best place for your personal blog or business site.

हिंदीज़ेन : HindiZen

जीवन में सफलता, समृद्धि, संतुष्टि और शांति स्थापित करने के मंत्र और ज्ञान-विज्ञान की जानकारी

WordPress.com News

The latest news on WordPress.com and the WordPress community.

%d bloggers like this: