RSS

विज्ञ बनो, अनभिज्ञ नहीं..

31 दिसम्बर
 

वीर बनो, क्रूर नहीं

 दृढ बनो, हठी नहीं
 खरे बनो, खारे नहीं
 भले बनो, भोले नहीं
  धीर बनो, सुस्त नहीं
प्रेमी बनो, पागल नहीं
गम्भीर बनो, गूंगे नहीं
चुस्त बनो, अधीर नहीं
न्यायी बनो, निर्दयी नहीं
सावधान बनो, संदेही नहीं
विवेकी बनो, मायावी नहीं
स्वाधीन बनो, स्वछंद नहीं
निरपेक्ष बनो, उदासीन नहीं
मितव्ययी बनो, कंजूस नहीं 
वितराग बनो, अकर्मण्य नहीं
समालोचक बनो, निंदक नहीं
आस्थावान बनों, अंधभक्त नहीं

 

टैग:

39 responses to “विज्ञ बनो, अनभिज्ञ नहीं..

  1. राज भाटिय़ा

    31/12/2010 at 2:58 पूर्वाह्न

    ति सुंदर विचार जी धन्यवाद

     
  2. राज भाटिय़ा

    31/12/2010 at 2:59 पूर्वाह्न

    अति भुल सुधार

     
  3. ZEAL

    31/12/2010 at 7:35 पूर्वाह्न

    प्रेरणादायी पंक्तियाँ ।आभार।

     
  4. राजभाषा हिंदी

    31/12/2010 at 8:49 पूर्वाह्न

    नववर्ष-2011 की हार्दिक शुभकामनाएं।

     
  5. Kunwar Kusumesh

    31/12/2010 at 8:50 पूर्वाह्न

    अच्छा इन्सान बनने के सभी मंत्र एक ही कविता में मौजूद हैं.बस लोग इनका पालन करें.

     
  6. Akhtar Khan Akela

    31/12/2010 at 9:01 पूर्वाह्न

    इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

     
  7. सतीश सक्सेना

    31/12/2010 at 10:15 पूर्वाह्न

    बढ़िया सीख दी आपने साभार !

     
  8. संगीता स्वरुप ( गीत )

    31/12/2010 at 11:21 पूर्वाह्न

    बहुत बढ़िया सन्देश देती रचना …खूबसूरत प्रस्तुति नव वर्ष की शुभकामनाएं

     
  9. anshumala

    31/12/2010 at 11:33 पूर्वाह्न

    बढ़िया चिंतन सुज्ञ जी | नए साल की बधाई |

     
  10. sada

    31/12/2010 at 11:46 पूर्वाह्न

    सुन्‍दर एवं सार्थक संदेश दिये हैं आपने इस प्रस्‍तुति में ..।नये साल की बधाई के साथ शुभकामनायें ।

     
  11. वन्दना

    31/12/2010 at 1:15 अपराह्न

    बढ़िया सन्देश देती रचना ।नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें।

     
  12. yogendra

    31/12/2010 at 2:02 अपराह्न

    आदरणीय ब्लागमित्र नमस्कार और नये साल की शुभकामनाऐं

     
  13. फ़िरदौस ख़ान

    31/12/2010 at 2:27 अपराह्न

    अच्छी पोस्ट है… नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं…

     
  14. विरेन्द्र सिंह चौहान

    31/12/2010 at 8:09 अपराह्न

    बातें तो आपने बहुत ही अच्छी-अच्छी लिखी हैं। अगर इनकों जीवन में उतार लिया जाए तो सारी समस्याएँ ही खंत्म हो जाएँ। इस साल आप जैसे कुछ और ब्लॉगर्स को पढ़ने और जानने का मौक़ा मिला। ये मेरे लिए एक उपलब्धि रही। इसीलिए आपको नये वर्ष के अवसर पर हार्दिक शुभकामनाएँ देते हुए अपार हर्ष का अनुभव हो रहा है।

     
  15. मनोज कुमार

    31/12/2010 at 9:32 अपराह्न

    सर्वस्तरतु दुर्गाणि सर्वो भद्राणि पश्यतु।सर्वः कामानवाप्नोतु सर्वः सर्वत्र नन्दतु॥सब लोग कठिनाइयों को पार करें। सब लोग कल्याण को देखें। सब लोग अपनी इच्छित वस्तुओं को प्राप्त करें। सब लोग सर्वत्र आनन्दित होंसर्वSपि सुखिनः संतु सर्वे संतु निरामयाः।सर्वे भद्राणि पश्यंतु मा कश्चिद्‌ दुःखभाग्भवेत्‌॥सभी सुखी हों। सब नीरोग हों। सब मंगलों का दर्शन करें। कोई भी दुखी न हो।बहुत अच्छी प्रस्तुति। नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं!सदाचार – मंगलकामना!

     
  16. deepak saini

    31/12/2010 at 9:44 अपराह्न

    प्रेरणादायी पंक्तियाँ ।आपको नव वर्ष की हृार्दिक शुभकामनाये

     
  17. सम्वेदना के स्वर

    31/12/2010 at 10:46 अपराह्न

    आपकी यह प्रेरणा हमारा सम्बल बने यही हमारी चेष्टा होगी… नववर्ष की मगल कामनाओं सहित..सलिलचैतन्य

     
  18. अविनाश वाचस्पति

    31/12/2010 at 11:29 अपराह्न

    अनभिज्ञता ही विज्ञता का द्वार हैएक हिन्‍दी ब्‍लॉगर पसंद है

     
  19. भारतीय नागरिक - Indian Citizen

    01/01/2011 at 12:10 पूर्वाह्न

    नव वर्ष की शुभकामनाये

     
  20. एस.एम.मासूम

    01/01/2011 at 12:16 पूर्वाह्न

    नववर्ष आपके लिए मंगलमय हो और आपके जीवन में सुख सम्रद्धि आये…एस.एम् .मासूम

     
  21. RAJEEV KUMAR KULSHRESTHA

    01/01/2011 at 7:57 पूर्वाह्न

    आपको नववर्ष 2011 मंगलमय हो ।एक बेहतरीन रचना ।काबिले तारीफ़ शव्द संयोजन ।बेहतरीन अनूठी कल्पना भावाव्यक्ति ।सुन्दर भावाव्यक्ति । साधुवाद ।satguru-satykikhoj.blogspot.com

     
  22. खबरों की दुनियाँ

    01/01/2011 at 9:44 पूर्वाह्न

    नववर्ष स्वजनों सहित मंगलमय हो आपको । सादर – आशुतोष मिश्र

     
  23. दीर्घतमा

    01/01/2011 at 9:57 पूर्वाह्न

    बहुत सुन्दर कबिता चयन भी अच्छा है आपकी कल्पना साकार हप भगवन से यही विनती है.

     
  24. दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi

    01/01/2011 at 10:08 पूर्वाह्न

    मुबारक हो नया साल, आप को और सब को!!!नए साल में आप कामयाबी की नई मंजिलें पाएँ!!!

     
  25. Harman

    01/01/2011 at 11:47 पूर्वाह्न

    nice post..Each age has deemed the new born yearThe fittest time for festal cheer..HAPPY NEW YEAR WISH YOU & YOUR FAMILY, ENJOY, PEACE & PROSPEROUS EVERY MOMENT SUCCESSFUL IN YOUR LIFE.Lyrics Mantra

     
  26. जी.के. अवधिया

    01/01/2011 at 3:06 अपराह्न

    नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनायें!पल पल करके दिन बीता दिन दिन करके साल।नया साल लाए खुशी सबको करे निहाल॥

     
  27. : केवल राम :

    01/01/2011 at 3:19 अपराह्न

    बहुत सुंदर पंक्तियाँ …इन सब पंक्तियों में से एक भी पंक्ति जीवन में उतर जाए तो जीवन – धन्य बन जाए … – इन प्रेरणादायक पंक्तियों के लिए बहुत – बहुत शुक्रिया नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनायें स्वीकार करें ..परिवार सहित

     
  28. वन्दना अवस्थी दुबे

    01/01/2011 at 3:54 अपराह्न

    खूब सीखें दी है सुज्ञ जी. कोशिश की जानी चाहिए इन्हे अपनाने की.नये वर्ष की अनन्त-असीम शुभकामनाएं.

     
  29. mahendra verma

    01/01/2011 at 5:26 अपराह्न

    बहुत सुंदर प्रस्तुति……..नव वर्ष 2011आपके एवं आपके परिवार के लिएसुख-समृद्धिकारी एवंमंगलकारी हो।।।शुभकामनाएं।।

     
  30. Gourav Agrawal

    01/01/2011 at 9:37 अपराह्न

    बेहद सुन्दर … प्रेरक … विचारणीय पोस्ट ।।शुभकामनाएं।।

     
  31. दिगम्बर नासवा

    03/01/2011 at 5:20 अपराह्न

    बढ़िया सन्देश देती रचना … नव वर्ष की शुभकामनाएं …

     
  32. mukes agrawal

    04/01/2011 at 1:46 अपराह्न

    आपको और आपके परिवार को नव वर्ष की अनंत मंगलकामनाएं

     
  33. ब्लॉग बुलेटिन

    29/06/2013 at 12:58 अपराह्न

    ब्लॉग बुलेटिन की ५५० वीं बुलेटिन ब्लॉग बुलेटिन की 550 वीं पोस्ट = कमाल है न मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है … सादर आभार !

     
  34. सुज्ञ

    29/06/2013 at 1:17 अपराह्न

    रश्मि जी, आपका बहुत बहुत आभार!!

     
  35. तुषार राज रस्तोगी

    29/06/2013 at 2:55 अपराह्न

    बहुत खूब लिखा | सुन्दर सोच एक सृजनात्मक सोच |

     
  36. कविता रावत

    29/06/2013 at 6:15 अपराह्न

    बहुत सुन्दर प्रेरक प्रस्तुति …

     
  37. प्रतिभा सक्सेना

    30/06/2013 at 8:56 पूर्वाह्न

    एक तो छूट ही गया – 'सुज्ञ बनो ,अज्ञ नहीं !'

     
  38. सुज्ञ

    30/06/2013 at 9:46 पूर्वाह्न

    :)सही है…..

     
  39. Alpana Verma

    18/07/2013 at 2:02 पूर्वाह्न

    हर पंक्ति एक सीख है.बहुत खूब!

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
गहराना

विचार वेदना की गहराई

॥दस्तक॥

गिरते हैं शहसवार ही मैदान-ए-जंग में, वो तिफ़्ल क्या गिरेंगे जो घुटनों के बल चलते हैं

तिरछी नजरिया

हितेन्द्र अनंत का दृष्टिकोण

मल्हार Malhar

पुरातत्व, मुद्राशास्त्र, इतिहास, यात्रा आदि पर Archaeology, Numismatics, History, Travel and so on

मानसिक हलचल

ज्ञानदत्त पाण्डेय का हिन्दी ब्लॉग। मैं यह ब्लॉग लिखने के अलावा गाँव विक्रमपुर, जिला भदोही, उत्तरप्रदेश, भारत में रह कर ग्रामीण जीवन जानने का प्रयास कर रहा हूँ। रेलवे से ज़ोनल रेलवे के विभागाध्यक्ष के पद से रिटायर्ड अफसर।

सुज्ञ

चरित्र विकास

Support

WordPress.com Support

Hindizen - हिंदीज़ेन

Hindizen - हिंदीज़ेन : Best Hindi Motivational Stories, Anecdotes, Articles...

The WordPress.com Blog

The latest news on WordPress.com and the WordPress community.

%d bloggers like this: