RSS

कैसे कैसे कसाई है जग में

29 अक्टूबर
  • बकरकसाई:  बकरे आदि जीवहिंसा करने वाला।
  • तकरकसाई:  खोटा माप-तोल करने वाला।
  • लकरकसाई:  वृक्ष वन आदि काटने वाला
  • कलमकसाई: लेखन से अन्य को पीडा पहूँचाने वाला।
  • क्रोधकसाई:  द्वेष, क्रोध से दूसरों को दुखित करने वाला।
  • अहंकसाई:   अहंकार से दूसरो को हेय,तुच्छ समझने वाला।
  • मायाकसाई:  ठगी व कपट से अन्याय करने वाला।
  • लोभकसाई:  स्वार्थवश लालच करने वाला।

_________________________________________________

 

टैग: ,

13 responses to “कैसे कैसे कसाई है जग में

  1. गिरिजेश राव

    29/10/2010 at 9:22 अपराह्न

    कलमकसाई बहुत जमा। अभी तो और भी सम्भावनाएँ थीं जैसे देशकसाई, वेशकसाई…

     
  2. फ़िरदौस ख़ान

    29/10/2010 at 9:24 अपराह्न

    Nice Post…

     
  3. Poorviya

    29/10/2010 at 9:29 अपराह्न

    nam hans raj kam kasai ka .bhai bura mat manana .

     
  4. अमित शर्मा

    29/10/2010 at 9:51 अपराह्न

    उल्लेखित आठ प्रकार के कसाइयों में से पहले और तीसरे प्रकार का तो नहीं हूँ, दूसरे नंबर का अपनी तरफ से तो सावधानी है, पर व्यापार में कुछ असावधानी से इनकार नहीं करता हूँ, कलम से भी कभी असावधानी हुयी होगी तो आप सावधान कर दीजिएगा ………………………….बाकी प्रकार के कसाईपने में किसी प्रकार की कमी नहीं है, कोशिश में लगा हूँ की इन नरक द्वारों से जल्द से जल्द दूर हो पाऊं

     
  5. भारतीय नागरिक - Indian Citizen

    29/10/2010 at 9:58 अपराह्न

    वाह!

     
  6. डॉ॰ मोनिका शर्मा

    29/10/2010 at 11:55 अपराह्न

    Bahut Badhiya… itni tarah ke kasai…?

     
  7. संगीता स्वरुप ( गीत )

    30/10/2010 at 12:05 पूर्वाह्न

    कलमकसाई………….. काश कलम चलाने वाले समझें इस बात को ..

     
  8. सम्वेदना के स्वर

    30/10/2010 at 8:29 पूर्वाह्न

    सूक्ष्म अध्ययन! अभी और भी बाकी हैं (बकौल गिरिजेश जी)..

     
  9. सुज्ञ

    30/10/2010 at 1:40 अपराह्न

    @गिरिजेश जी,सही सुझाया, ये दोनो तो महाकसाई है। @ nam hans raj kam kasai ka .@पुरविया जी,वाकई भाव पहचान गये,यह कलमकसाई पना तो हुआ ही। @अमित जी,आपकी स्वीकारोक्ति,शब्दशः मेरी भी है, उन चारों के आगमन पर संवर के प्रयास में हूं। @भारतीय नागरिक जी,@डॉ॰ मोनिका शर्मा जी,आभार आपका।वाह,वाह लेना उद्देश्य नहिं, प्रयास है इन कसाईयों के प्रति अरति पैदा करना। @दीदी,@काश कलम चलाने वाले समझें इस बात को .. हां, बस दीदी सभी चलाने से पहले इस शब्द का स्मरण कर ले। @चैतन्य जी,आभार!!!@@"अभी और भी बाकी हैं"सभी से निवेदन विद्वान पाठक सुझाएँ………

     
  10. ज़ाकिर अली ‘रजनीश’

    30/10/2010 at 3:52 अपराह्न

    सुज्ञ जी, ब्‍लॉग जगत में आजकल 'शब्‍दकसाई' भी तो हैं।

     
  11. पं.डी.के.शर्मा"वत्स"

    30/10/2010 at 9:04 अपराह्न

    कसाईयों की क्या दुनिया में कमी है….ये तो युग ही कसाईयों का है.

     
  12. दिगम्बर नासवा

    31/10/2010 at 4:27 अपराह्न

    अभी तो और भी कई कसाई आयेंगे …. कर्युग है समाज भरा पड़ा है …

     
  13. Gourav Agrawal

    01/11/2010 at 3:57 अपराह्न

    कलमकसाई …. वाह वाह वाह

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
गहराना

विचार वेदना की गहराई

॥दस्तक॥

गिरते हैं शहसवार ही मैदान-ए-जंग में, वो तिफ़्ल क्या गिरेंगे जो घुटनों के बल चलते हैं

तिरछी नजरिया

हितेन्द्र अनंत का दृष्टिकोण

मल्हार Malhar

पुरातत्व, मुद्राशास्त्र, इतिहास, यात्रा आदि पर Archaeology, Numismatics, History, Travel and so on

मानसिक हलचल

ज्ञानदत्त पाण्डेय का हिन्दी ब्लॉग। मैं यह ब्लॉग लिखने के अलावा गाँव विक्रमपुर, जिला भदोही, उत्तरप्रदेश, भारत में रह कर ग्रामीण जीवन जानने का प्रयास कर रहा हूँ। रेलवे से ज़ोनल रेलवे के विभागाध्यक्ष के पद से रिटायर्ड अफसर।

सुज्ञ

चरित्र विकास

Support

WordPress.com Support

Hindizen - हिंदीज़ेन

Hindizen - हिंदीज़ेन : Best Hindi Motivational Stories, Anecdotes, Articles...

The WordPress.com Blog

The latest news on WordPress.com and the WordPress community.

%d bloggers like this: