RSS

मांसाहार प्रचार का भ्रमज़ाल (सार्थक विकल्प निरामिष)

23 अगस्त
सलीम खान ने कभी अपने ब्लॉग पर यह ’14 बिन्दु’ मांसाहार के पक्ष में प्रस्तुत किये थे। असल में यह सभी कुतर्क ज़ाकिर नाईक के है, जो यहां वहां प्रचार माध्यमों से फैलाए जाते है। वैसे तो इन फालतू कुतर्को पर प्रतिक्रिया टाली भी जा सकती थी, किन्तु  इन्टरनेट जानकारियों का स्थायी स्रोत है यहाँ ऐसे भ्रामक कुतर्क अपना भ्रमजाल फैलाएँगे तो लोगों में संशय और भ्रम स्थापित होंगे। ये कुतर्क यदि निरूत्तर रहे तो भ्रम, सच की तरह रूढ़ हो जाएंगे, इसलिए जालस्थानों में इन कुतर्कों का यथार्थ और तथ्ययुक्त खण्ड़न  उपलब्ध होना नितांत ही आवश्यक है।

मांसाहार पर यह प्रत्युत्तर-खण्ड़न, धर्मिक दृष्टिकोण से नहीं, बल्कि अहिंसा और करूणा के दृष्टिकोण से प्रस्तुत किए जा रहे है। मांसाहार को भले ही कोई अपने धर्म का पर्याय या प्रतीक मानता हो, जीव-हत्या किसी भी धर्म का उपदेश या सिद्धांत नहीं हो सकता। इसलिए यह खण्ड़न अगर निंदा है तो स्पष्ट रूप से यह हिंसा, क्रूरता और निर्दयता की निंदा है। गोश्तखोरी प्रायोजित हिंसा सदैव और सर्वत्र निंदनीय ही होनी चाहिए, क्योंकि इस विकार से बनती हिंसक मनोवृति समाज के शान्त व संतुष्ट जीवन ध्येय में मुख्य बाधक है।

निश्चित ही शारीरिक उर्जा पूर्ति के लिए भोजन करना आवश्यक है। किन्तु सृष्टि का सबसे बुद्धिमान प्राणी होने के नाते, मानव इस जगत का मुखिया है। अतः प्रत्येक जीवन के प्रति, उत्तरदायित्व पूर्वक सोचना भी मानव का कर्तव्य है। सृष्टि के सभी प्राणभूत के अस्तित्व और संरक्षण के लिए सजग रहना, मानव की जिम्मेदारी है। ऐसे में आहार से उर्जा पूर्ति का निर्वाह करते हुए भी, उसका भोजन कुछ ऐसा हो कि आहार-इच्छा से लेकर, आहार-ग्रहण करने तक वह संयम और मितव्ययता से काम ले। उसका यह ध्येय होना चाहिए कि सृष्टि की जीवराशी  कम से कम खर्च हो। साथ ही उसकी भावनाएँ सम्वेदनाएँ सुरक्षित रहे, मनोवृत्तियाँ उत्कृष्ट बनी रहे। प्रकृति-पर्यावरण और स्वभाव के प्रति यह निष्ठा, वस्तुतः उसे मिली अतिरिक्त बुद्धि के बदले, कृतज्ञता भरा अवदान है। अस्तित्व रक्षा के लिए भी अहिंसक जीवन-मूल्यों को पुनः स्थापित करना मानव का कर्तव्य है। सभ्यता और विकास को आधार प्रदान के लिए सौम्य, सात्विक और सुसंस्कृत भोजन शैली को अपनाना जरूरी है।

सलीम खान के मांसाहार भ्रमजाल का खण्ड़न।

1 – दुनिया में कोई भी मुख्य धर्म ऐसा नहीं हैं जिसमें सामान्य रूप से मांसाहार पर पाबन्दी लगाई हो या हराम (prohibited) करार दिया हो.

खण्ड़न- इस तर्क से मांसाहार ग्रहणीय नहीं हो जाता। यदि यही कारण है तो  ऐसा भी कोई प्रधान धर्म नहीं, जिस ने शाकाहार पर प्रतिबंध लगाया हो। प्रतिबंध तो मूढ़ बुद्धि के लिए होते है, विवेकवान के लिए संकेत ही पर्याप्त होते है। धर्म केवल हिंसा न करने का उपदेश करते है एवं हिंसा प्रेरक कृत्यों से दूर रहने की सलाह देते है। आगे मानव के विवेकाधीन है कि आहार व रोजमर्रा के वे कौन से कार्य है जिसमें हिंसा की सम्भावना है और उससे विरत रहकर हिंसा से बचा जा सकता है। सभी धर्मों में, प्रकट व अप्रकट रूप से सभी के प्रति अहिंसा के उद्देश्य से ही दया, करूणा, रहम आदि को उपदेशित किया गया है। पाबन्दीयां, मायवी और बचने के रास्ते निकालने वालों के लिए होती है, विवेकवान के लिए तो दया, करूणा, रहम, सदाचार, ईमान में अहिंसा ही गर्भित है।

2 – क्या आप भोजन मुहैया करा सकते थे वहाँ जहाँ एस्किमोज़ रहते हैं (आर्कटिक में) और आजकल अगर आप ऐसा करेंगे भी तो क्या यह खर्चीला नहीं होगा?

खण्ड़न- अगर एस्किमोज़ मांसाहार बिना नहीं रह सकते तो क्या आप भी शाकाहार उपलब्ध होते हुए एस्किमोज़ का बहाना आगे कर मांसाहार चालू रखेंगे? खूब!! एस्किमोज़ तो वस्त्र के स्थान पर चमड़ा पहते है, आप क्यों नही सदैव उनका वेश धारण किए रहते? अल्लाह नें आर्कटिक में मनुष्य पैदा ही नहीं किये थे,जो उनके लिये वहां पेड-पौधे भी पैदा करते, लोग पलायन कर पहुँच जाय तो क्या कीजियेगा। ईश्वर नें बंजर रेगीस्तान में भी इन्सान पैदा नहीं किए। फ़िर भी स्वार्थी मनुष्य वहाँ भी पहुँच ही गया। यह तो कोई बात नहीं हुई कि  दुर्गम क्षेत्र में रहने वालों को शाकाहार उपलब्ध नहीं, इसलिए सभी को उन्ही की आहार शैली अपना लेनी चाहिए। आपका यह एस्किमोज़ की आहारवृत्ति का बहाना निर्थक है। जिन देशों में शाकाहार उपलब्ध न था, वहां मांसाहार क्षेत्र वातावरण की अपेक्षा से मज़बूरन होगा और इसीलिए उसी वातावरण के संदेशकों-उपदेशकों नें मांसाहार पर उपेक्षा का रूख अपनाया होगा। लेकिन यदि उपलब्ध हो तो, सभ्य व सुधरे लोगों की पहली पसंद शाकाहार ही होता है। जहां सात्विक पौष्ठिक शाकाहार प्रचूरता से उपलब्ध है वहां जीवों को करूणा दान या अभयदान दे देना चाहिए। सजीव और निर्जीव एक गहन विषय है। जीवन वनस्पतियों आदि में भी है, लेकिन प्राण बचाने को संघर्षरत पशुओं को मात्र स्वाद के लिये मार खाना तो क्रूरता की पराकाष्ठा है। आप लोग दबी जुबां से कहते भी हो कि “मुसलमान, शाकाहारी होकर भी एक अच्छा मुसलमान हो सकता है” फ़िर मांसाहार की इतनी ज़िद्द ही क्यों?, और एक ‘अच्छा मुसलमान’ बनने से भला इतना परहेज भी क्यों ?

3 – अगर सभी जीव/जीवन पवित्र है पाक है तो पौधों को क्यूँ मारा जाता है जबकि उनमें भी जीवन होता है.
4 – अगर सभी जीव/जीवन पवित्र है पाक है तो पौधों को क्यूँ मारा जाता है जबकि उनको भी दर्द होता है.
5 – अगर मैं यह मान भी लूं कि उनमें जानवरों के मुक़ाबले कुछ इन्द्रियां कम होती है या दो इन्द्रियां कम होती हैं इसलिए उनको मारना और खाना जानवरों के मुक़ाबले छोटा अपराध है| मेरे हिसाब से यह तर्कहीन है.

खण्ड़न- इस विषय पर जानने के लिए शाकाहार मांसाहार की हिंसा के सुक्ष्म अन्तर  को समझना होगा। साथ ही हिंसा में विवेक  करना होगा। स्पष्ट हो जाएगा कि जीवहिंसा प्रत्येक कर्म में है, किन्तु हम विवेकशील है,  हमारा कर्तव्य बनता है, हम वह रास्ता चुनें जिसमे जीव हिंसा कम से कम हो। किन्तु आपके तर्क की सच्चाई यह है कि वनस्पति हो या पशु-पक्षी, उनमें जान साबित करके भी आपको किसी की जान बचानी नहीं है। आपको वनस्पति जीवन पर करूणा नहीं उमड़ रही, हिंसा अहिंसा आपके लिए अर्थहीन है, आपको तो मात्र सभी में जीव साबित करके फिर बडे से बडे प्राणी और बडी से बडी हिंसा का चुनाव करना है।

“एक यह भी कुतर्क दिया जाता है कि शाकाहारी सब्जीयों को पैदा करनें के लिये आठ दस प्रकार के जंतु व कीटों को मारा जाता है।”

खण्ड़न- इन्ही की तरह कुतर्क करने को दिल चाहता है………
भाई, इतनी ही अगर सभी जीवों पर करूणा आ रही है,और जब दोनो ही आहार हिंसाजनक है तो दोनो को छोड क्यों नहीं देते?  दोनो नहीं तो पूरी तरह से किसी एक की तो कुर्बानी(त्याग) करो…॥ कौन सा करोगे????

“ऐसा कोनसा आहार है,जिसमें हिंसा नहीं होती।”

खण्ड़न- यह कुतर्क ठीक ऐसा है कि ‘वो कौनसा देश है जहां मानव हत्याएं नहीं होती?’ इसलिए मानव हत्याओं को जायज मान लिया जाय? उसे सहज ही स्वीकार कर लिया जाय? और उसे बुरा भी न कहा जाय? आपका आशय यह है कि, जब सभी में जीवन हैं, और सभी जीवों का प्राणांत, हिंसादोष है तो सबसे उच्च्तम, क्रूर, घिघौना बडे जीव की हत्या का दुष्कर्म ही क्यों न अपनाया जाय? यह तो सरासर समझ का दिवालियापन है!!

तर्क से तो बिना जान निकले पशु शरीर मांस में परिणित हो ही नहीं सकता। तार्किक तो यह है कि किसी भी तरह का मांस हो, अंततः मुर्दे का ही मांस होगा। उपर से तुर्रा यह है कि हलाल तरीके से काटो तो वह मुर्दा नहीं । मांस के लिये जीव की जब हत्या की जाती है, तो जान निकलते ही मख्खियां करोडों अंडे उस मुर्दे पर दे जाती है, पता नहीं जान निकलनें का एक क्षण में मख्खियों को कैसे आभास हो जाता है। उसी क्षण से वह मांस मख्खियों के लार्वा का भोजन बनता है, जिंदा जीव के मुर्दे में परिवर्तित होते ही लगभग 563 तरह के सुक्ष्म जीव उस मुर्दा मांस में पैदा हो जाते है। और जहां यह तैयार किया जाता है वह जगह व बाज़ार रोगाणुओं के घर होते है, और यह रोगाणु भी जीव ही होते है। यानि एक ताज़ा मांस के टुकडे पर ही हज़ारों मख्खी के अंडे, लाखों सुक्ष्म जीव, और हज़ारों रोगाणु होते है। कहो, किसमें जीव हिंसा ज्यादा है।, मुर्दाखोरी में या अनाज दाल फ़ल तरकारी में?

रही बात इन्द्रिय के आधार पर अपराध की तो जान लीजिए कि हिंसा तो अपराध ही है बस क्रूरता और सम्वेदनाओं के स्तर में अन्तर है। जिस प्रकार किसी कारण से गर्भाधान के समय ही मृत्यु हो जाय, पूरे माह पर मृत्यु हो जाय, जन्म लेकर मृत्यु हो, किशोर अवस्था में मृत्यु हो जवान हो्कर मृत्यु हो या शादी के बाद मृत्यु हो होने वाले दुख की मात्रा व तीव्रता बढ़ती जाती है। कम से अधिकतम दुख महसुस होता है क्योंकि इसका सम्बंध भाव से है। उसी तरह अविकसित से पूर्ण विकसित जीवन की हिंसा पर क्रूर भाव की श्रेणी बढती जाती है। बडे पशु की हिंसा के समय अधिक विकृत व क्रूर भाव चाहिए। सम्वेदना भी अधिक से अधिक कुंदओ जानी चाहिए। आप कम इन्द्रिय पर अधिक करूणा की बात करते है न, क्या विकलेन्द्रिय भाई के अपराध के लिए इन्द्रिय पूर्ण भाई को फांसी दे देना न्यायोचित होगा? यदि दोनो में से किसी एक के जीवन की कामना करनी पडे तो किसके पूर्ण जीवन की कामना करेंगे? विकलेन्द्रिय या पूर्णइन्द्रिय?

6 -इन्सान के पास उस प्रकार के दांत हैं जो शाक के साथ साथ माँस भी खा/चबा सकता है.

7 – और ऐसा पाचन तंत्र जो शाक के साथ साथ माँस भी पचा सके. मैं इस को वैज्ञानिक रूप से सिद्ध भी कर सकता हूँ | मैं इसे सिद्ध कर सकता हूँ.

खण्ड़न- मानते है इन्सान कुछ भी खा/चबा सकता है, किन्तु प्राकृतिक रूप से वह शिकार करने के काबिल हर्गिज नहीं है।  वे दांत शिकार के अनुकूल नहीं है। उसके पास तेज धारदार पंजे भी नहीं है। मानव शरीर संरचना शाकाहार के ही अनुकूल है। मानव प्रकृति से शाकाहारी ही है। खाने चबाने को तो हमने लोगों को कांच चबाते देखा है, जहर और नशीली वस्तुएँ पीते पचाते देखा है। मात्र खाने पचाने का सामर्थ्य हो जाने भर से जहर, कीचड़, कांच मिट्टी आदि उसके प्राकृतिक आहार नहीं हो जाते। ‘खाओ जो पृथ्वी पर है’ का मतलब यह नहीं कि कहीं निषेध का उल्लेख न हो तो धूल, पत्थर, जहर, एसीड आदि भी खा लिया जाय। इसलिए ऐसे किसी बेजा तर्क से मांसहार करना तर्कसंगत सिद्ध नहीं हो जाता।

8 – आदि मानव मांसाहारी थे इसलिए आप यह नहीं कह सकते कि यह प्रतिबंधित है मनुष्य के लिए | मनुष्य में तो आदि मानव भी आते है ना.

खण्ड़न- हां, देखा तो नहीं, पर सुना अवश्य था कि आदि मानव मांसाहारी थे। पर नवीनतम जानकारी तो यह भी मिली कि प्रगैतिहासिक मानव शाकाहारी था। यदि फिर भी मान लें कि वे मांसाहारी थे तो बताईए शिकार कैसे करते थे? अपने उन दो छोटे भोथरे दांतो से? या कोमल नाखूनो से? मानव तो पहले से ही शाकाहारी रहा है, उसकी मां के दूध के बाद उसकी पहली पहचान फलों – सब्जियों से हुई होगी। जब कभी कहीं, शाकाहार का अभाव रहा होगा तो पहले उसने हथियार बनाए होंगे फ़िर मांसाहार किया होगा। यानि हथियारों के अविष्कार के पहले वह फ़ल फ़ूल पर ही आश्रित था।

लेकिन फिर भी इस कुतर्क की जिद्द है तो, आदि युग में तो आदिमानव नंगे घुमते थे, क्या हम आज उनका अनुकरण करें? वे अगर सभ्यता के लिए अपनी नंगई छोड़ कर परिधान धारी बन सकते है तो हम आदियुगीन मांसाहारी से सभ्ययुगीन शाकाहारी क्यों नहीं बन सकते? हमारे आदि पूर्वजों ने इसी तरह विकास साधा है हम क्या उस विकास को आगे भी नहीं बढ़ा सकते?

9 – जो आप खाते हैं उससे आपके स्वभाव पर असर पड़ता है – यह कहना ‘मांसाहार आपको आक्रामक बनता है’ का कोई भी वैज्ञानिक आधार नहीं है.

खण्ड़न- इसका तात्पर्य ऐसा नहीं कि हिंसक पशुओं के मांस से हिंसक,व शालिन पशुओं के मांस से शालिन बन जाओगे।

इसका तात्पर्य यह है कि जब आप बार बार बड़े पशुओं की अत्यधिक क्रूरता से हिंसा करते है तब ऐसी हिंसा, और हिंसा से उपजे आहार के कारण, हिंसा के प्रति सम्वेदनशीलता खत्म हो जाती है। क्रूर मानसिकता पनपती है और हिंसक मनोवृति बनती है। ऐसी मनोवृति के कारण आवेश आक्रोश द्वेष सामान्य सा हो जाता है। क्रोधावेश में हिंसक कृत्य भी सामान्य होता चला जाता है। इसलिए आवेश आक्रोश की जगह कोमल संवेदनाओं का संरक्षण जरूरी है। जैसे- रोज रोज कब्र खोदने वाले के चहरे का भाव कभी देखा है?,पत्थर की तरह सपाट चहरा। क्या वह मरने वाले के प्रति जरा भी संवेदना या सहानुभूति दर्शाता है? वस्तुतः उसके बार बार के यह कृत्य में सलग्न रहने से, मौत के प्रति उसकी सम्वेदनाएँ मर जाती है।

10 – यह तर्क देना कि शाकाहार भोजन आपको शक्तिशाली बनाता है, शांतिप्रिय बनाता है, बुद्धिमान बनाता है आदि मनगढ़ंत बातें है.

खण्ड़न- हाथ कंगन को आरसी क्या?, यदि शाकाहारी होने से कमजोरी आती तो मानव कब का शाकाहार और कृषी छोड चुका होता। कईं संशोधनों से यह बात उभर कर आती रही है कि शाकाहार में शक्ति के लिए जरूरी सभी पोषक पदार्थ है। बाकी शक्ति सामर्थ्य के प्रतीक खेलो के क्षेत्र में अधिकांश खिलाडी शाकाहार अपना रहे है। कटु सत्य तो यह है कि शक्तिशाली, शांतिप्रिय, बुद्धिमान बनाने के गुण मांसाहार में तो बिलकुल भी नहीं है।

11 – शाकाहार भोजन सस्ता होता है, मैं इसको अभी खारिज कर सकता हूँ, हाँ यह हो सकता है कि भारत में यह सस्ता हो. मगर पाश्चात्य देशो में यह बहुत कि खर्चीला है खासकर ताज़ा शाक.

खण्ड़न- भाड में जाय वो बंजर पाश्चात्य देश जो ताज़ा शाक पैदा नहीं कर सकते!! भारत में यह सस्ता और सहज उपलब्ध है तब यहां तो शाकाहार अपना लेना बुद्धिमानी है। सस्ते महंगे की सच्चाई तो यह है कि पशु से 1 किलो मांस प्राप्त करने के लिए उन्हें 13 किलो अनाज खिला दिया जाता है, उपर से पशु पालन उद्योग में बर्बाद होती है विशाल भू-सम्पदा, अनियंत्रित पानी का उपयोग निश्चित ही पृथ्वी पर भार है। मात्र  भूमि का अन्न उत्पादन के लिए प्रयोग हो तो निश्चित ही अन्न सभी जगह अत्यधिक सस्ता हो जाएगा। बंजर निवासियों को कुछ अतिरिक्त खर्चा करना पडे तब भी उनके लिए सस्ता सौदा होगा।

12 – अगर जानवरों को खाना छोड़ दें तो इनकी संख्या कितनी बढ़ सकती, अंदाजा है इसका आपको.

खण्ड़न- अल्लाह का काम आपने ले लिया? अल्लाह कहते है इन्हें हम पैदा करते है।

जो लोग ईश्वरवादी है, वे तो अच्छी तरह से जानते है, संख्या का बेहतर प्रबंधक ईश्वर ही है।

जो लोग प्रकृतिवादी है वे भी जानते है कि प्रकृति के पास जैव सृष्टि के संतुलन का गजब प्लान है।

करोडों साल से जंगली जानवर और आप लोग मिलकर शाकाहारी पशुओं को खाते आ रहे हो, फ़िर भी जिस प्रजाति के जानवरों को खाया जाता है, बिलकुल ही विलुप्त या कम नहीं हुए। उल्टे मांसाहारी पशु अवश्य विलुप्ति की कगार पर है। सच्चाई तो यह है कि जो जानवर खाए जाते है उनका बहुत बडे पैमाने पर उत्पादन होता है। जितनी माँग होगी उत्पादन उसी अनुपात में बढता जाएगा। अगर नही खाया गया तो उत्पादन भी नही होगा।

13 -कहीं भी किसी भी मेडिकल बुक में यह नहीं लिखा है और ना ही एक वाक्य ही जिससे यह निर्देश मिलता हो कि मांसाहार को बंद कर देना चाहिए.

खण्ड़न- मेडिकल बुक किसी धार्मिक ग्रंथ की तरह ‘अंतिम सत्य’ नहीं है। वह इतनी इमानदार है कि कल को यदि कोई नई शोध प्रकाश मेँ आए तो वह अपनी ‘बुक’ में इमानदारी से परिवर्तन-परिवर्धन कर देगी। शाकाहार के श्रेष्ठ विकल्प पर अभी तक गम्भीर शोध-खोज नहीं हुई है। किन्तु सवाल जब मानव स्वास्थ्य का है तो कभी न कभी यह तथ्य अवश्य उभर कर आएगा कि मांसाहार मनुष्य के स्वास्थ्य के बिलकुल योग्य नहीं है। और फिर माँसाहार त्याग का उपाय सहज हो,अहानिकर हो तो माँसाहार से निवृति का स्वागत होना चाहिए। मेडिकल बुक में भावनाओं और सम्वेदनाओं पर कोई उल्लेख या निर्देश नहीं होता, तो क्या भावनाओं और सम्वेदनाओं की उपयोगिता महत्वहीन हो जाती है? यह भी ध्यान रहे भावोँ के कईं तथ्य और तत्व इस मेडिकल बुक में नहीं है, उस दशा में उस अन्तिम बुक को निरस्त कर देँगे जिस में किसी भी तरह का परिवर्तन ही सम्भव नहीं?

14 – और ना ही इस दुनिया के किसी भी देश की सरकार ने मांसाहार को सरकारी कानून से प्रतिबंधित किया है.

खण्ड़न- सरकारें क्यों प्रतिबंध लगायेगी? जबकि उसके निति-नियंता भी इसी समाज की देन है, यहीं से मानसिकता और मनोवृतियां प्राप्त करते है। लोगों का आहार नियत करना सरकारों का काम नहीं है।यह तो हमारा फ़र्ज़ है, हम विवेक से उचित को अपनाएं, अनुचित को दूर हटाएं। उदाहरण के लिए झुठ पर सरकारी कानून से प्रतिबंध कहीं भी नहीं लगाया गया है। फिर भी सर्वसम्मति से झूठ को बुरा माना जाता है। किसी प्रतिबंध से नहीं बल्कि नैतिक प्रतिबद्धता से हम झूठ का व्यवहार नहीं करते। कानून सच्च बोलने के लिए मजबूर नहीं कैसे कर पाएगा?  इसीलिए सच पाने के लिए अदालतों को धर्मशास्त्रों शपथ दिलवानी पडती है। ईमान वाला व्यक्ति इमान से ही सच अपनाता है और झूठ न बोलने को अपना नैतिक कर्तव्य मानकर बचता है। उसी तरह अहिंसक आहार को अपना नैतिक कर्तव्य मानकर अपनाना होता है।

हर प्राणी में जीवन जीने की अदम्य इच्छा होती है, यहां तक की कीट व जंतु भी कीटनाशक दवाओं के प्रतिकार की शक्ति उत्पन्न कर लेते है। सुक्ष्म जीवाणु भी कुछ समय बाद रोगप्रतिरोधक दवाओं से प्रतिकार शक्ति पैदा कर लेते है। यह उनके जीनें की अदम्य जिजीविषा का परिणाम होता है। सभी जीना चाहते है मरना कोई नहीं चाहता।

इसलिए, ‘ईमान’ और ‘रहम’ की बात करने वाले ‘शान्तिपसंद’ मानव का यह फ़र्ज़ है कि वह जीए और जीने दे।

 

टैग: , ,

20 responses to “मांसाहार प्रचार का भ्रमज़ाल (सार्थक विकल्प निरामिष)

  1. ab inconvenienti

    23/08/2010 at 2:59 अपराह्न

    अगर जानवरों को खाना छोड़ दें तो इनकी संख्या कितनी बढ़ सकती, अंदाजा है इसका आपको.मेरे (कु)तर्क : मुर्गे, बकरे, गाय, भैंस, ऊंट को छोड़ बाकी सभी प्रजातियाँ विलुप्ति की कगार पर हैं. हां मनुष्य काफी बढ़ रहे हैं, इतने बढ़ रहे हैं की रहने की जगह कम पड़ रही है. सारी दुनिया में कुल जितने जानवर नहीं उतने इंसान हो गए हैं. क्या इंसान के मांस का सेवन इस आधार पर जायज़ है? अधिकतर देशों के लोग बन्दर, सांप, चील, बाज़, कुत्ता, लोमड़ी, घोड़ा, गधा , बनमानुस, गिरगिट, मगरमच्छ नहीं खाते. इनकी तादाद हद से ज्यादा क्यों नहीं बढ़ रही? इनमे से अधिकतर बिना खाए विलुप्ति की कगार पर क्यों? मुस्लिम देशों में सूअर नहीं खाया जाता, वहां तो इस तर्क के हिसाब से सूअर हद से ज्यादा होने चाहिए. मुस्लिम देशों में कितने सूअर हैं?http://michaelbluejay.com/veg/natural.html

     
  2. सम्वेदना के स्वर

    23/08/2010 at 3:50 अपराह्न

    चर्चा रोचक है. हम तो शाकाहार के पक्ष में हैं. एक पुरानी कहावत है "जैसा खाओं अन्न वैसा होए मन"

     
  3. सुज्ञ

    23/08/2010 at 4:39 अपराह्न

    ॰ ab inconvenienti सही फ़र्माया आपने, आभार

     
  4. सुज्ञ

    23/08/2010 at 4:41 अपराह्न

    चैतन्य जी,आपने सही कहा,"जैसा खाओं अन्न वैसा होए मन" पर इनको वैज्ञानिक प्रमाण चाहिए, जैसे ये जो कर रहे है सब वैज्ञानिक रिति से कर रहे हों

     
  5. Mahak

    23/08/2010 at 7:29 अपराह्न

    आज तो सच में आपने सलीम खान के हर कुतर्क का पूरे तर्कपूर्ण ढंग से जवाब देकर सच में नहले पर दहला मार दियाआपका एक-२ तर्क अकाट्य है और हम पूरी तरह से आपके साथ है , मांसाहार जैसे अमानवीय और संवेदनहीन कृत्य का समर्थन करने वालों को इस लेख से ज़रूर कुछ ना कुछ सीख मिलेगी ऐसी मेरी उम्मीद और ईश्वर से प्रार्थना है बहुत-२ शुभकामनायें एवं आभार ईश्वर आपको लंबी आयु प्रदान करे महक

     
  6. डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

    23/08/2010 at 9:15 अपराह्न

    जबरदस्ती मांसाहार की ओर प्रेरित कने वाली पोस्ट!

     
  7. दीर्घतमा

    23/08/2010 at 10:47 अपराह्न

    मनुष्य साका हारी प्राणी है— जो जानवर जीभ से पानी पीते है वे मांसाहारी है जैसे कुत्ता,शेर,बिल्ली इत्यादि जो मुह से पानी पीते है वे स्वाभिक रूप से साका हारी होते है जैसे गाय,भैस,बकरी,मनुष्य इत्यादि यदि वे ऐसा नहीं करते तो वे प्रकृति बिरोधी है.

     
  8. राजभाषा हिंदी

    24/08/2010 at 7:50 पूर्वाह्न

    रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाएँ.हिन्दी ही ऐसी भाषा है जिसमें हमारे देश की सभी भाषाओं का समन्वय है।

     
  9. Udan Tashtari

    24/08/2010 at 7:54 पूर्वाह्न

    नो कमेंट!रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाएँ.

     
  10. ललित शर्मा-للت شرما

    24/08/2010 at 10:57 पूर्वाह्न

    आपको श्रावणी पर्व की हार्दिक बधाईलांस नायक वेदराम!

     
  11. Coral

    24/08/2010 at 1:30 अपराह्न

    🙂 …ये तो आपनी अपनी सोच है ….और किसी भी बात का अतिरेक अच्छा नहीं है … चाहे वो मांसाहार हो या शाकाहार …………

     
  12. डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक

    25/08/2010 at 12:39 अपराह्न

    सुज्ञ जी !आपने पोस्ट तो अच्छे मन से मांसाहार के विरोध में लगाई है! परन्तु किसी पन्थ विशेष के व्यक्ति के तर्क देकर परोक्षरूप से मांसाहार का समर्थन ही किया प्रतीत होता है!–तर्क लगाने थे तो किसी सन्त महात्मा के ही लगाने थे!

     
  13. Dr. Ayaz Ahmad

    25/08/2010 at 6:41 अपराह्न

    @ सुज्ञ जी !1-विश्व मानव एक ही परिवार हैं। जब आप लोग ‘वसुधैव कुटुंबकम्‘ कहते हैं तो क्या आपका यह दायित्व नहीं बनता कि आप अगर मांसाहार की निन्दा करें तो फिर यह भी चिन्ता करें कि लगभग 700 करोड़ का यह पूरा परिवार क्या खायेगा ?2-मैंने टी.वी. पर देखा है कि तरूण सागर जी महाराज जैन समाज के लोगों को अचार खाने पर धिक्कारते हुए कह रहे थे कि जब तुम मूली-गाजर बनोगे और लोग तुम्हें मसाले लगाकर डिब्बे में बन्द करेंगे , तब कैसा लगेगा ?3-मसाले तो पकाते समय सब्ज़ी में भी डाले जाते हैं और उन्हें स्वादिष्ट भी बनाया जाता है। क्या सब्ज़ियों को मसाले लगाकर अचार डालना और उन्हें पकाना जैन भोजन पद्धति में निषिद्ध है ?4-यह सही है कि हम जैन समाज के बारे में कम जानते हैं , इसीलिए आपके सामने सवाल रखा है। हमें न कोई ऐतराज़ है और न ही उपहास करना हमारा तरीक़ा है। हम सिर्फ़ अपना विचार रख रहे हैं और आपका विचार जो भी है उसे जानना चाहते हैं । 5-भोजन के संबंध में आपके और हमारे विचार में अन्तर है । हमने तो कभी आपके ‘विचारों‘ का विश्लेषण नहीं किया लेकिन जब आपने हवाला दिया तो हमने पूछ लिया कि इस विचार की व्यवहारिकता क्या है ?6-लाखों लोग तो सब्ज़ी खा सकते हैं लेकिन करोड़ों लोगों की खाद्य समस्या कैसे हल करेंगे आप जैन दर्शन के अनुसार ?धर्म वही होता है जिसका पालन सर्वत्र किया जा सके।

     
  14. Dr. Ayaz Ahmad

    25/08/2010 at 6:41 अपराह्न

    @ सुज्ञ जी !1-विश्व मानव एक ही परिवार हैं। जब आप लोग ‘वसुधैव कुटुंबकम्‘ कहते हैं तो क्या आपका यह दायित्व नहीं बनता कि आप अगर मांसाहार की निन्दा करें तो फिर यह भी चिन्ता करें कि लगभग 700 करोड़ का यह पूरा परिवार क्या खायेगा ?2-मैंने टी.वी. पर देखा है कि तरूण सागर जी महाराज जैन समाज के लोगों को अचार खाने पर धिक्कारते हुए कह रहे थे कि जब तुम मूली-गाजर बनोगे और लोग तुम्हें मसाले लगाकर डिब्बे में बन्द करेंगे , तब कैसा लगेगा ?3-मसाले तो पकाते समय सब्ज़ी में भी डाले जाते हैं और उन्हें स्वादिष्ट भी बनाया जाता है। क्या सब्ज़ियों को मसाले लगाकर अचार डालना और उन्हें पकाना जैन भोजन पद्धति में निषिद्ध है ?4-यह सही है कि हम जैन समाज के बारे में कम जानते हैं , इसीलिए आपके सामने सवाल रखा है। हमें न कोई ऐतराज़ है और न ही उपहास करना हमारा तरीक़ा है। हम सिर्फ़ अपना विचार रख रहे हैं और आपका विचार जो भी है उसे जानना चाहते हैं । 5-भोजन के संबंध में आपके और हमारे विचार में अन्तर है । हमने तो कभी आपके ‘विचारों‘ का विश्लेषण नहीं किया लेकिन जब आपने हवाला दिया तो हमने पूछ लिया कि इस विचार की व्यवहारिकता क्या है ?6-लाखों लोग तो सब्ज़ी खा सकते हैं लेकिन करोड़ों लोगों की खाद्य समस्या कैसे हल करेंगे आप जैन दर्शन के अनुसार ?धर्म वही होता है जिसका पालन सर्वत्र किया जा सके।

     
  15. सुज्ञ

    25/08/2010 at 7:32 अपराह्न

    आपके तर्कों से ही साबित है कि आप बात पर चिंतन की जगह, दोषो के विलोपन में अधिक रत है। कितना भी प्रयास किया जायेगा,ढाक के तीन पात।जैसा आप कम जानते है, वैसे ही परिपूर्ण जानकारी का यहां भी अभाव है, मैं नहिं चाहता आपको जल्दबाज़ी में सतही जानकारी दी जाय,और आप उसका मन माफ़िक़ अर्थघटन करने लग जाय। जो कि किसी भी विचारधारा के साथ अन्याय होगा।धर्म तो वह है जिसका पूर्णतः पालन करना विरले महपुरूषो के लिये ही आसान है।

     
  16. DEEPAK BABA

    26/08/2010 at 9:37 अपराह्न

    सही तर्क दिया है आपने… शाखाहार ही मनुष्य का पहला आहार रहा होगा….. उसके बाद ही शिकार करना शुरू किया होगोया………ये लोग भी बताते है की आदम और एव ने सेब खाया था……

     
  17. संजय भास्कर

    19/09/2010 at 1:17 अपराह्न

    सही तर्क दिया है आपने.

     
  18. सुज्ञ

    08/09/2012 at 1:52 अपराह्न

    1-धान्य शाक से समस्त लगभग 700 करोड़ का भरण-पोषण सम्भव है 1 किलो मांस पाने के लिए 13 किलो अनाज का अपव्यय किया जाता है और पशुपालन के लिए 10 गुना अधिक जमीन का दुरपयोग। गोश्तखोरी की निंदा में सभी मानवों का हितचिंतन अभिग्रहित है। शाकाहार प्रेरणा में 'हमलोगों' का ‘वसुधैव कुटुंबकम्‘ का असल भाव सुरक्षित है। अहिंसा का विस्तार परिवार में भी शान्ति का स्थापक होता है।2-तरूण सागर जी महाराज आक्म से कम जैन समाज के लोगों को तो सही कहते है। यदि शाक सब्जी के साथ ऐसा व्यवहार निकृष्ट है तो कल्पना कीजिए बड़े जानवरों के साथ स्पष्ट क्रूरता वाला व्यवहार कैसा होगा? क्या परिणाम देगा।3-जैन भोजन पद्धति में कुंद व जड़ निषिद्धताएं नहीं होती, मर्यादाएं बढ़ाने का एक मार्ग होता है, भोग संयम में निरंतर विकास का प्रबन्ध होता है। आपके बस का नहीं है वह यथार्थ समझ लेना।4-जैन समाज के बारे में कम जानते हैं यह तो होना ही है। आप ऐतराज़ करें या उपहास, जैन दर्शन, धर्म या समाज को इससे कोई अन्तर नहीं पडता। क्योंकि जैन दर्शन की यह अवधारणा है कि अज्ञान व मिथ्यात्व प्रत्येक आत्मा के अपने ज्ञांनावरणीय कर्मों का नतीजा है। उस आत्मा का स्वयं का पुरूषार्थ ही सम्यक ज्ञान प्रदान कर सकता है।5- न केवल भोजन के संबंध में आपके और हमारे विचार में अन्तर है। बल्कि अहिंसा जैसे लक्ष्य साधक विचार में मूलभूत अन्तर है, भोजन तो मात्र हिंसा-अहिंसा प्रेरक पड़ाव मात्र है। आपने भले पूछा, व्यवहारिकता क्या, मानव अस्तित्व के लिए अहिंसक मूल्यों की स्थापना के बिना कोई चारा भी नहीं है।6-करोड़ों लोग अहिंसक बनकर सन्तुष्ट जीवन यापन कर सकते है। सभी को जैन दर्शन अपनाकर उसके अनुसार कुछ भी करने की आवश्यकता नहीं है। बस सभी अहिंसक बन जाय, सभी का मानव जन्म सफल है।सर्वत्र पालन तो अधर्म का ही सहज है धर्म तो वही है जिसकी राह कठिन संयम भरी हो।

     
  19. सुज्ञ

    08/09/2012 at 2:52 अपराह्न

    आपके तर्कों से ही प्रतीत होता है कि आप बात पर विमर्ष- चिंतन की जगह अपने दोषो के विलोपन में अधिक रत है। साबित है कि परस्पर दोषारोपण ही आपका हथियार व निवारण है इसलिए कितना भी प्रयास किया जायेगा,ढाक के तीन पात।जैसा आप कम जानते है, तो मात्र विवाद के लिए परिपूर्ण जानकारी उपलब्ध करवाना हमें भी उचित प्रतीत नहीं होता। मैं यह भी नहीं चाहता कि प्राथमिक व सतही जानकारी लेकर आप जल्दबाज़ी में मन माफ़िक़ अर्थघटन करने लग जाय। जो निश्चित ही किसी भी विचारधारा के साथ अन्याय होगा।बस इतना जान लीजै कि……सच्चा धर्म तो वह है जिसका पूर्णतः पालन करना विरले महपुरूषो के लिये ही आसान होता है। बाकि अधर्म तो वैसे भी सर्वत्र अधिक ही प्रसार पाता है।

     
  20. Shivangi

    13/04/2013 at 3:55 पूर्वाह्न

    अति सुन्दर सत्य वचन। आपको ओटी कोटि धन्यवाद मान्यवर । कृपा कर के इसी प्रकार से ज्ञान के प्रकाश से हमारी बुद्धि का मार्गदर्शन करते रहें ।

     

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

 
गहराना

विचार वेदना की गहराई

॥दस्तक॥

गिरते हैं शहसवार ही मैदान-ए-जंग में, वो तिफ़्ल क्या गिरेंगे जो घुटनों के बल चलते हैं

तिरछी नजरिया

हितेन्द्र अनंत का दृष्टिकोण

मल्हार Malhar

पुरातत्व, मुद्राशास्त्र, इतिहास, यात्रा आदि पर Archaeology, Numismatics, History, Travel and so on

मानसिक हलचल

ज्ञानदत्त पाण्डेय का हिन्दी ब्लॉग। मैं यह ब्लॉग लिखने के अलावा गाँव विक्रमपुर, जिला भदोही, उत्तरप्रदेश, भारत में रह कर ग्रामीण जीवन जानने का प्रयास कर रहा हूँ। रेलवे से ज़ोनल रेलवे के विभागाध्यक्ष के पद से रिटायर्ड अफसर।

सुज्ञ

चरित्र विकास

Support

WordPress.com Support

Hindizen - हिंदीज़ेन

Hindizen - हिंदीज़ेन : Best Hindi Motivational Stories, Anecdotes, Articles...

The WordPress.com Blog

The latest news on WordPress.com and the WordPress community.

%d bloggers like this: